अब नहीं रखना होगा RC और DL साथ, 1 अक्टूबर से बदल रहे हैं नियम

Guj

नई दिल्लीः गाड़ी चलाते समय RC और ड्राइविंग लाइसेंस साथ में रखने का झंझट अब खत्म होने वाला है। अब आप अपने इन डॉक्युमेंट्स की वैलिड सॉफ्ट कॉपी लेकर भी गाड़ी चला सकते हैं। बता दें कि जांच के दौरान ये पूरी तरह मान्य होंगे। साथ ही ड्राइविंग करते समय रूट देखने के लिए आप अपने मोबाइल का इस्तेमाल भी कर पाएंगे। दरअसल, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने मोटर वाहन नियम 1989 में किए गए ऐसे विभिन्न संशोधनों की अधिसूचना जारी कर दी है, जो 1 अक्टूबर से लागू हो जाएंगे। तो अब आप निश्चिंत होकर रोड़ पर गाड़ी चला सकते हैं।

Also read: धनाश्री ने पंजाबी गाने पर किया जबरदस्त डांस, देखें वायरल वीडियो

सरकार ने कहा है कि 1 अक्टूबर, 2020 से ड्राइविंग लाइसेंस और ई-चालान सहित वाहन से जुड़े तमाम दस्तावेज का रखरखाव एक आईटी पोर्टल के माध्यम से किया जाएगा। जांच के दौरान इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से वैध पाए गए व्हीकल डॉक्युमेंट्स के बदले फिजिकल डॉक्युमेंट्स (हार्ड कॉपी) की मांग नहीं की जाएगी। साथ ही यह भी कहा गया है कि लाइसेंसिंग अथॉरिटी द्वारा अयोग्य या निरस्त किए गए ड्राइविंग लाइसेंस की डीटेल्स पोर्टल पर रिकॉर्ड की जाएगी और इसे अपडेट भी किया जाएगा।

Also read: सुशांत केसः AIIMS ने CBI को सौंपी रिपोर्ट, जहर की संभावना को किया खारिज

नए नियमों में इस बात का भी प्रावधान किया गया है कि गाड़ी चलाते समय सिर्फ रूट नेविगेशन (रास्ता देखने के लिए) के लिए मोबाइल का इस्तेमाल किया जा सकता है, लेकिन यह भी सुनिश्चित करना होगा कि ड्राइवर का ध्यान न भटके। हालांकि, ड्राइविंग के दौरान फोन पर बात करने की छूट नहीं है।

Also read: Bihar Election: चिराग की हठ बढ़ायेगी राजग की मुश्किलें, BJP डैमेज कंट्रोल में लगी

सरकार ने कहा, ‘सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने मोटर वीइकल रूल्स 1989 में किए गए विभिन्न संशोधनों के बारे में अधिसूचना जारी की है, जिसमें मोटर वीइकल रूल्स की बेहतर निगरानी और क्रियान्वयन के लिए 1 अक्टूबर 2020 से पोर्टल के माध्यम से वाहन संबंधी दस्तावेज और ई-चालान का रखरखाव किया जा सकेगा।’

Also read: BIGG BOSS-14 शुरू होने जा रहा है, जानें कौन होंगे कंटेस्टेंट और क्या होगा खास

वाहन चालकों का उत्पीड़न खत्म
मंत्रालय ने कहा है कि आईटी सर्विस और इलेक्ट्रॉनिक मॉनिटरिंग के उपयोग से देश में यातायात नियमों को बेहतर ढंग से लागू किया जा सकेगा। साथ ही इससे वाहन चालकों का उत्पीड़न भी खत्म होगा और लोगों को सुविधा होगी।

Also read: शर्मनाकः हैवानों ने महिला से गैंगरेप के बाद की हैवानियत, 15 दिन बाद अस्पताल में तोड़ा दम

पोर्टल पर होगा सारा रिकॉर्ड
पोर्टल पर फिजिकल और इलेक्ट्रॉनिक रूप से सर्टिफिकेट उपलब्ध कराने की प्रक्रिया के प्रावधान किए गए हैं। इस तरह के दस्तावेज की वैलिडिटी, उसे जारी किया जाना, उसकी जांच किए जाने की डेट-टाइम की मुहर और अधिकारी की पहचान इस पोर्टल पर रिकॉर्ड की जाएगी। इससे वाहनों की अनावश्यक दोबारा जांच रोकने में मदद मिलेगी, जिससे ड्राइवरों का उत्पीड़न बंद होगा।

Also read: अब नहीं रखना होगा RC और DL साथ, 1 अक्टूबर से बदल रहे हैं नियम

Also read: Corona Update: भारत में रिकवरी रेट 83 प्रतिशत के पार पहुंचा

 

Add comment


Security code
Refresh