Food

खाने में मिलावट को कैसे पहचानें और क्या है उससे बचने के उपाय?

नई दिल्ली: अस्वच्छ वातावरण में बनाए गए खाद्यपदार्थ, मिलावटयुक्त पदार्थ साथ में रखना तथा मिलावटयुक्त अन्नपदार्थ के सेवन से किसी की मृत्यु होने पर अथवा व्यक्ति को शारीरिक कष्ट अथवा रोग होने पर ऐसे अनेक अपराधों के लिए खाद्य सुरक्षा के विषय में विद्यमान कानूनों के अनुसार दोषियों के विरोध में दंड का प्रावधान अस्तित्व में है । इस स्तर के अपराधों हेतु आर्थिक दंड, कारावास इत्यादि दंड है । खाद्यपदार्थों का स्तर उत्तम हो, इसके लिए प्रशासन सजग है; परंतु त्योहार-उत्सवों के काल में नागरिक भी जागरूक रहकर खाद्यपदार्थ क्रय करें (खरीदें), ऐसा आवाहन कोल्हापुर के खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग के सहायक आयुक्त मोहन केंबळकर ने किया । वे 'आरोग्य साहाय्य समिति' और 'सुराज्य अभियान' द्वारा आयोजित 'खाने में मिलवाट कैसे पहचानें और उपाय ?'

Body

नाज़ुक अंगो को घायल कर रहा आपका कठोर व्यवहार: डा. अरुण कुमार

आजकल की भागदौड़ भी लाईफ में आदमी के पास अपने लिए भी टाईम नहीं है। इस भागदौड़ भरे लाईफस्टाइल में आदमी अपने खाने-पीने का ध्यान नहीं रख पाता और बाद में उसे पछताना पड़ता है। कुछ लोग जल्दी के चक्कर में सुबह का नाश्ता नहीं करते जोकि बेहद खतरनाक हो सकता है। लंबे समय तक इस तरह की आदतें आपको बीमार बना सकती हैं। डॉ. अरूण कुमार अपने अनुभव से कुछ बातें बता रहें हैं जो रोजमर्रा के जीवन में इस्तेमाल करने से आपको स्वस्थ रख सकती हैं।

Doctor

महिलाओं के जीवन को प्रभावित करता है गर्भाशय फाइब्रॉएड: डॉ. शिवराज इंगोले

प्रोफेसर और यूनिट हेड इंटरवेंशनल रेडियोलॉजी ग्रांट मेडिकल कॉलेज और सर जे जे अस्पताल से विशेष बातचीत

महिलाओं में फाइब्रॉएड की समस्या बहुत कॉमन है। अधिकतर 35 से 50 वर्ष की उम्र में यह परेशानी सामने आती है। मुंबई के जे जे अस्पताल एवं ग्रांट मेडिकल कॉलेज के प्रोफेसर और इंटरविंशनल रेडियोलाजिस्ट डॉक्टर शिवराज इंगोले ने हमसे इस बीमारी पर विस्तार से बात की। गर्भाशय फाइब्रॉएड एक नॉन-कैंसर ट्यूमर हैं जिसे यूटेराइन फाइब्रॉएड या गर्भाशय की गाठ के नाम से भी जाना जाता है। फाइब्रॉएड का आकार भिन्न हो सकता है, यह सेम के बीज से लेकर तरबूज जितना हो सकता है। ये क्यों होते हैं इसका बहुत स्पष्ट कारण पता नहीं है। हार्मोन का प्रभाव और अनुवांशिकता इसके होने में एक प्रमुख कारण माना जाता है। 99 प्रतिशत ये बिनाइन यानी बिना कैंसर वाली होती है इसलिए बहुत घबराने जैसी बात नहीं होती। 

Banana

रोज एक केला खाने से मिलेंगे गजब के फायदे, जानकर रह जायेंगे हैरान!

हम सभी यह सुनते हुए बड़े हुए हैं कि ‘रोजाना एक सेब खाएं डॉक्टर को दूर भगाएं’। लेकिन यह पता चला है कि एक केले के फायदे उतने ही अच्छे हो सकते हैं, जितने सेब के। सबसे अच्छी बात है कि केला एक ऐसा फल है जो बाहर महीने आसानी से मिल जाता है और सस्ता होने की वजह से इसकी पहुंच हर तबके तक है। केला विटामिन और पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं और जब आप नियमित रूप से केला खाते हैं, तो वे आपके संपूर्ण स्वास्थ्य को बनाए रखने और बेहतर बनाने में मदद करते हैं। दूसरे शब्दों में, एक केला खाने से निश्चित रूप से स्वस्थ रहने का मार्ग प्रशस्त होता है।

Bath

ठंडे पानी में नहाने के फायदे जानकार आप रह जायेंगे हैरान

वैसे तो आमतौर पर लोग ठंडे पानी से नहाने में परहेज करते हैं, लेकिन ठंडे पानी में नहाने के इतने फायदे हैं कि आप जानकार हैरान हो जायेंगे। एक स्टडी में सामने आया है कि 70 डिग्री फ़ारेनहाइट से नीचे के ठंडे पानी के तापमान में स्नान से स्वास्थ्य लाभ हो सकता है। इस पद्धति को जल चिकित्सा (हाइड्रोथेरेपी) भी कहा जाता है। इसका उपयोग सदियों से हमारे शरीर की कठोर परिस्थितियों के अनुकूल बनाने के लिए किया जाता रहा है। नतीजतन, हमारा शरीर तनाव के प्रति अधिक प्रतिरोधी हो जाता है। किसी भी स्थिति के लिए ठंडे पानी से उपचार का मुख्य स्रोत नहीं है, लेकिन वे लक्षणों से राहत और सामान्य स्वास्थ्य में सुधार करने में आपकी मदद कर सकते हैं।