चीन ने अरुणाचल को बताया अपना हिस्सा, 5 भारतीय अगवा युवकों पर नहीं दिया कोई जवाब

China

नई दिल्लीः अरुणाचल प्रदेश से 5 भारतीय युवकों का अपहरण करने के सेना के सवाल पर चीनी प्रवक्ता ने जवाब दिया कि इस बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन से जब इन युवकों के बारे में पूछा गया तो उसने भारतीयों के बारे में जानकारी देने की बजाय अरुणाचल प्रदेश को चीन का हिस्सा बता दिया। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना के अनुरोध के बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है।

लिजियन ने कहा, चीन ने कभी भी तथाकथित “अरुणाचल प्रदेश“ को मान्यता नहीं दी है, जो चीन का दक्षिण तिब्बत क्षेत्र है, और हमारे पास अभी तक भारतीय सेना पर सवाल के बारे में कोई विवरण नहीं है जो इस क्षेत्र में 5 लापता भारतीयों के बारे में पीएलए को संदेश भेज रहा है।’’

CHtw

बता दें कि अरुणाचल प्रदेश के 5 युवकों की अपहरण की जांच के लिए एक पुलिस टीम को मैकमोहन लाइन से सटे सीमावर्ती क्षेत्र में भेजा गया है। यह लाइन अपर सुबनसिरी जिले को तिब्बत से अलग करती है।

कहा जा रहा है कि इन युवकों को चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने उनको अगवा किया है। गांववालों और गायब हुए युवकों के परिजनों का दावा है कि ये युवक भारतीय सेना के लिए पोर्टर के रूप में काम करते थे जो दुर्गम क्षेत्रों में सामान की ढुलाई करते थे। यह भी कहा जा रहा है कि ये युवक संभवतः जंगल की ओर गए होंगे जहां से ये चीनी सेना के हत्थे चढ़े। लापता आदिवासी युवकों में से एक के भाई ने फेसबुक पर पोस्ट किया था कि चीनी सेना नाचो के पास इंटरनैशनल बॉर्डर (आईबी) से भारतीय सेना के सेरा-7 पेट्रोलिंग इलाके से भारतीय युवकों को उठा ले गई है।

इस बीच, केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने बताया कि भारतीय सेना ने इस संबंध में पीपुल्स लिबरेशन ऑफ आर्मी (पीएलए) के समकक्षों को पहले ही हॉटलाइन संदेश भेज दिया है।

Also read in English: Chinese Foreign Ministry spokesman Zhao Lijian told Arunachal Pradesh as part of China

Add comment


Security code
Refresh