देश

Lok Sabha elections 2024: राम लला की प्राण प्रतिष्ठा और लोकसभा चुनाव दोनों ‘शुभ’ होंगे: आचार्य सत्येन्द्र दास

अयोध्या में राम मंदिर के भव्य प्रतिष्ठा समारोह से पहले, मुख्य पुजारी आचार्य सत्येन्द्र दास ने अयोध्या में हो रहे विकास कार्यों की प्रशंसा की और कहा कि प्रतिष्ठा समारोह और लोकसभा चुनाव 2024 दोनों “शुभ” होंगे।

Lok Sabha elections 2024: अयोध्या में राम मंदिर के भव्य प्रतिष्ठा समारोह से पहले, मुख्य पुजारी आचार्य सत्येन्द्र दास ने अयोध्या में हो रहे विकास कार्यों की प्रशंसा की और कहा कि प्रतिष्ठा समारोह और लोकसभा चुनाव 2024 दोनों “शुभ” होंगे। समाचार एजेंसी पीटीआई से बात करते हुए आचार्य सत्येन्द्र दास ने कहा कि अयोध्या में सिर्फ शांति नहीं, बल्कि ‘राम राज्य’ आ रहा है।

उन्होंने कहा, “सिर्फ शांति नहीं, ‘राम राज्य’ आ रहा है। राम लला गर्भगृह में विराजमान होंगे।” उन्होंने एक दोहा भी जोड़ा – “राम राज बैठे त्रिलोक, हर्षित भये, गए सब शोक”।

मुख्य पुजारी ने कहा, “दुःख, दर्द, तनाव समाप्त हो जाएगा और हर कोई खुश होगा।”

अयोध्या में नए साल का जश्न
आचार्य दास की टिप्पणी राम मंदिर में नए साल के जश्न से पहले आई, जिसके दौरान राम लला को ‘छप्पन भोग’ और ‘प्रसाद’ चढ़ाया गया। उनके सहयोगी ने बताया कि होली, रामनवमी, बसंत पंचमी, नया साल, स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस जैसे विशेष अवसरों पर राम लला को ‘छप्पन भोग’ चढ़ाया जाता है।

आचार्य दास ने कहा, “यह नया साल बहुत महत्वपूर्ण है, और यह महत्वपूर्ण है क्योंकि इस महीने 22 जनवरी को, राम लला गर्भगृह (निर्माणाधीन मंदिर के) में विराजमान होंगे… और यह लोगों के लिए बहुत फायदेमंद होगा।“

31 दिसंबर की रात को, अयोध्या ‘जय श्री राम’ के जोशीले नारों से गूंज उठी, जब कई स्थानीय लोग और आगंतुक नए साल का स्वागत करने के लिए नया घाट के पास प्रसिद्ध लता मंगेशकर चौक पर एकत्र हुए। हजारों भक्तों ने सरयू नदी में पवित्र डुबकी लगाकर नए साल का जश्न मनाया, जबकि अन्य लोग रामलला के दर्शन के लिए रामजन्मभूमि मंदिर गए।

मुख्य पुजारी ने कहा, “2024 में बहुत सारे काम किए जाने हैं। एक तो यह कि रामलला गर्भगृह में विराजमान होंगे और, इसी साल 2024 में लोकसभा चुनाव भी होंगे और ये सब ‘शुभ’ होगा।”

अयोध्या में विकास परियोजनाएं
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 30 दिसंबर को 15,000 करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाओं का उद्घाटन या शिलान्यास करने के लिए अयोध्या का दौरा किया। परियोजनाओं में नए अयोध्या हवाई अड्डे और पवित्र शहर के पुनर्विकसित रेलवे स्टेशन का उद्घाटन शामिल था।

राम मंदिर प्रतिष्ठा समारोह इस साल अप्रैल-मई में लोकसभा चुनाव 2024 से कुछ महीने पहले आ रहा है। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा तीसरी बार सत्ता में आने की उम्मीद कर रही है और अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण को भुनाने की कोशिश करेगी, जो 1980 में अपनी स्थापना के बाद से उनके राजनीतिक वादों का हिस्सा रहा है।